जन्माष्टमी क्यों मनाई जाती है? | जन्माष्टमी Quotes/SMS हिंदी में

दोस्तों कृष्ण जन्माष्टमी आने वाला है क्या आपको मालूम है जन्माष्टमी क्यों मनाई जाती है ?

जन्माष्टमी कब है | जन्माष्टमी 2020 whatsapp message / SMS हिंदी में

जन्माष्टमी / कृष्ण जन्म उत्सव इस वर्ष 11 अगस्त को मनाया जाएगा, जन्माष्टमी जिस के आगमन से पहले ही उसकी तैयारियां जोर शोर से आरंभ हो जाती है! पूरे भारतवर्ष में इस त्यौहार का उत्साह देखने योग्य होता है 

चारों ओर का वातावरण भगवान श्री कृष्ण के रंग में डूबा हुआ होता है पौराणिक धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने पृथ्वी को पापियों से मुक्त करने हेतु कृष्ण रूप में अवतार लिया भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को महा रात्रि को रोहिणी नक्षत्र में देवकी और वासुदेव के पुत्र रूप में श्री कृष्ण का जन्म हुआ था जन्माष्टमी के शुभ अवसर के समय भगवान कृष्ण के दर्शन के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु मथुरा पहुंचते हैं 

मंदिरों को खास तौर पर सजाया जाता है मथुरा के सभी मंदिरों को रंग बिरंगी फूलों से सजाया जाता है मथुरा में जन्माष्टमी पर आयोजित होने वाले श्री कृष्ण जन्म उत्सव को देखने के लिए देश-विदेशों से लाखों की संख्या में कृष्ण भक्त पहुंचते हैं।

इस दिन मंदिरों में झांकियां सजाई जाती है तथा भगवान श्री कृष्ण को झूला झुलाया जाता है और रासलीला का आयोजन किया जाता है ।

जन्माष्टमी व्रत पूजा विधि- 

शास्त्रों के अनुसार इस दिन व्रत का पालन करने से भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति होती है यह व्रत कामनाओं को पूर्ण करने वाला होता है श्री कृष्ण की पूजा आराधना का यह पावन पर्व सभी को कृष्ण भक्ति के प्रयोग कर देता है 

यह व्रत सनातन धर्म मानने वालों के लिए अनिवार्य माना जाता है इस दिन उपवास रखे जाते हैं तथा कृष्ण भक्ति के गीतों का भ्रमण किया जाता है घर में पूजा गृह तथा मंदिरों में श्री कृष्ण लीला की झांकियां सजाई जाती हैं जन्माष्टमी पर्व के दिन प्रातः काल उठकर नित्य कर्मों से निवृत्त होकर पवित्र नदियों में पोखरा में या घर पर ही स्नान इत्यादि करके जन्माष्टमी व्रत का संकल्प लिया जाता है 

पंचामृत व गंगाजल से माता देवकी और भगवान श्री कृष्ण की सोना चांदी तांबा पीतल मिट्टी की मूर्तियां या चित्र पालने में स्थित करते हैं तथा भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति को नए वस्त्र धारण करवाते हैं बाल गोपाल की प्रतिमा को पालने में बिठाते हैं और भगवान श्री कृष्ण का पूजन करते हैं 

पूजन में देवकी वासुदेव बलदेव नंद यशोदा और लक्ष्मी आदि के नामों का उच्चारण करते हैं तथा उनकी मूर्तियों को भी साथ में स्थापित करके पूजन करते हैं जन्माष्टमी के व्रत रखने से आपका हर एक मनोकामना पूर्ण होता है तो आप सभी लोग जन्माष्टमी धूमधाम से मनाएं और व्रत रखें।

जन्माष्टमी कब है?

इस वर्ष जन्माष्टमी 11 अगस्त को मनाया जाएगा

Janmashtami Quotes - SMS 2020 in Hindi - 

रूप बड़ा प्यारा है,
चेहरा बड़ा निराला है,
बड़ी से बड़ी मुसीबत को क
जी ने पल में हर डाला है।
कन्हैया हमारे दुलारे,
वही सबसे प्यारे,
माखन के लिए झगड़ जाए,
गोपिया देखकर आकर्षित हो जाए,
लेकिन सबके रखवाले,
तभी तो सबके दुलारे
शुभ जन्माष्टमी!
नटखट कान्हा आए द्वार
लेकर अपनी बांसुरी साथ
मोर मुकुट सर पर सोहे
और आंखों में काजल की धार
मुबारक हो आपको
जन्माष्टमी का शुभ त्यौहार
माखन चोर नंद किशोर,
बांधी जिसने प्रीत की डोर,
हरे कृष्ण हरे मुरारी,
पूजती जिन्हें दुनिया सारी,
आओ उनके गुण गाए,
सब मिल के जन्माष्टमी मनाए। 

ऊपर कुछ मैंने आपके लिए जन्माष्टमी पर अपने परिवार और मित्रों को भेजने के लिए अच्छे-अच्छे संदेश लिखें हैं आप इनको कॉपी करके अपने करीबी लोगों को भेजकर उनको जन्माष्टमी की शुभकामनाएं दे सकते हैं।

No comments:

Powered by Blogger.