Krishna Janmashtami 2020 : जाने शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में

 

दोस्तों आज का दिन हिन्दुओ के लिए बहुत खास दिन होता है , Krishna Janmasthmi का पावन पर्व भादव मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को सेलिब्रेट किया जाता है , कुछ लोग आज के दिन यानि 11 august 2020 को Krishna Janmasthami का पर्व मना रहे वही कुछ लोग यह पर्व कल 12 August 2020 को मना रहे हैं , आपको बताते चले कि मथुरा में Krishna Janmasthami 2020 12 August को मनाई जा रही है वही ब्रज में 11 August को यानि आज के दिन मनाई जा रही है ।

History of Krishna Janmasthami in Hindi 


दोस्तों पौराणिक कथाओं और ऋषि मुनियों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि भगवान श्री कृष्ण का जन्म भाद्रपद मास के अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था और इस बार भारतीय पंचांग के अनुसार रोहिणी नक्षत्र सुबह 9 बजे से आरंभ हो रहा है और अष्ठमी की तिथि 12 August को सुबह 11 बजकर 16 मिनट पर समाप्त हो रही है , बात करें कि Krishna Janmasthami कब मनाये तो आपको बताते चलते हैं कि हिन्दू पंचांग के अनुसार अष्ठमी तिथि को मनाई जाएगी और जो व्यक्ति रोहिणी नक्षत्र को अधिक महत्व देते हैं उसके अनुसार पूजा पाठ करते हैं तो वे इस त्योहार को 12 August को मनाएंगे ।

Krishna Janmasthami का शुभ मुहूर्त जानिए :

दोस्तों आपको बताते चले कि पूजा का सही समय क्या है जैसा कि आप जानते हैं कि हर वर्ष यह त्योहार लगातार दो दिन पड़ता है हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी यह 11 August और 12 August को पड़ रहा है जो लोग यह त्योहार आज के दिन यानि 11 August को मना रहे हैं तो सुबह 9 बजकर 6 मिनट से अष्ठमी तिथि प्रारंभ हो जाएगी ।

और जो लोग इस त्योहार को कल यानि 12 August को मना रहे हैं  तो अष्ठमी तिथि समाप्त होने का समय अगले दिन सुबह 5 बजकर 22 मिनट को समाप्त हो जाएगी , और रोहिणी नक्षत्र के अनुसार 13 अगस्त सुबह 3 बजकर 27 मिनट से प्रांरभ होगी और 14 August को सुबह 5 बजकर 22 मिनट पर समाप्त हो जाएगी ।

Krishna Janmasthami की पूजा विधि और महत्व : 

जैसा कि हमने आपको बताया कि यह त्योहार हिंदुओं का सबसे विशेष पर्व है इस त्योहार को लोग बहुत धूम धाम से सेलिब्रेट करते हैं , मंदिरों में झाकियां निकाली जाती है और बड़े बड़े मंदिरों का नज़ारा देखने लायक होता है , श्री कृष्ण भगवान विष्णु जी के आठवें अवतार हैं , मथुरा में आज के दिन पूरे शहर को जगमगा दिया जाता है , इस दिन बच्चों से लेकर वृद्ध लोग तक व्रत रखते हैं और श्री कृष्ण की भक्ति में लीन रहते हैं !

अब बात करें पूजा विधि की तो आपको बताते चले तो दिनचर्या से शुरुआत करते हैं आप स्नान कर वस्त्र धारण कर ले तत्पश्चात पूजा के समय आप अपने घर के मंदिर में लड्डू गोपाल की मूर्ति को गंगाजल से स्न्नान कराएं व उन्हें नए वस्त्र धारण कराएं , स्नान कराने की विधि होती है आपको दूध , केसर , शक्कर , दही आदि से स्नान कराएं फिर एक बार आप शुद्ध जल से स्नान कराएं , इसके बाद आप उन्हें भोग लगाकर उनकी पूजा करे , आरती करें , अगर आप व्रत रखें हैं तो आप अगले दिन नवमी को प्रसाद ग्रहण करें तथा घर के अन्य सदस्य को प्रसाद दें ।

Krishna Janmasthami Quotes in Hindi 2020 : 


● माखन चुराकर जिसने खाया ,
बंसी बजाकर जिसने नचाया ।
 खुशी मनाओ उसके जन्मदिन की ,
 जिसने प्रेम के महत्व को है समझाया ।।

● नंद के घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की ।
आनंद उमंग भयो जय हो नंद लाल की ।।

● छीन लूं तुझे दुनिया से मेरे बस में नही ।
मगर मेरे दिल से तुझे कोई निकाल दे ये किसी के बस में नही ।।

● फूलों से सज रहें है वृंदा बिपिन बिहारी ।
और संग में सज रही हैं , श्री वृषभानू की दुलारी ।।

● मेरा आपकी कृपा से 
सब काम हो रहा है ,
करते हो तुम कन्हैया 
मेरा नाम हो रहा है, पतवार के बिना मेरी नाव चल रही है 
बस होता रहे हमेशा जो कुछ भी हो रहा है ।।

 

● लोगों की रक्षा करने के लिए ,
एक उंगली पर पहाड़ है उठाया ।
उसी कन्हैया की याद दिलाने ,
जन्माष्टमी का यह पावन दिन आया ।।

दोस्तों उम्मीद करते हैं आपको यह ब्लॉग पसंद आया होगा आप अपने मित्रों के साथ इसे साझा कर सकते हैं और हमारे youtube Channel Become Youtuber से भी जुड़ सकते हैं ।।

No comments:

Powered by Blogger.