Top 10 best chanakya Quotes in Hindi | चाणक्य के विचार

 

दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम आपको महान विद्वान Acharya Chanakya जी के Top 10 Best Quotes के विषय मे बताएंगे , Acharya Chanakya एक महान विद्वान थे जिनकी नीतियों से कई बड़े साम्राज्य स्थापित हुए ।

Chanakya biography in Hindi

आचार्य चाणक्य का वास्तविक नाम विष्णुगुप्त कौटिल्य था ,इनका जन्म 375 ई• तक्षशिला में हुआ था जो वर्तमान में जिला रावलपिंडी (पाकिस्तान) है ,इनकी शैक्षणिक योग्यता की बात करें तो इन्होंने अर्थशास्त्र , समाजशास्त्र , राजनीतिक शास्त्र की शिक्षा प्राप्त की है ,इनके व्यवसाय की बात की जाए तो यह चंद्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे ।

आचार्य चाणक्य के परिवार की बात करें तो इनके पिता का नाम ऋषि कनक और माता जी का नाम चनेश्वरी जी था और इनकी पत्नी का नाम ज्ञात नही है , इनकी मृत्यु 75 वर्ष की उम्र में हुई थी इनके मृत्यु के संदर्भ में वैज्ञानिकों का मानना है कि इन्होंने अपने अंतिम समय के दौरान भोजन त्याग दिया था जिस कारण इनकी मृत्यु हुई तो आपको Top 10 best Chanakya quotes बताने जा रहे जो हमारे जीवन में कहीं न कहीं relate करते हैं ।

Top 10 Best Quotes by Acharya Chanakya 

● चाणक्य कहते हैं कि इंसान को सरल स्वभाव का होना चाहिए , गुस्सैल व क्रोधी स्वभाव के व्यक्ति के पास लक्ष्मी जी की कृपा नहीं होती है , बहुत बार गुस्से में गलत डिसीजन ले लेने से बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ता है , इस कारण व्यक्ति को सरल स्वभाव का होना चाहिए ।

● आचार्य चाणक्य कहते हैं कि लालची व्यक्ति अपने जीवन में कभी भी सफलता को हासिल नहीं कर सकता है , दूसरों की बुराई कर धन अर्जित करने वाले व्यक्ति के पास लक्ष्मी जी कभी नहीं विराजती हैं ।

● धन संपदा आने पर व्यक्ति को कभी भी घमंड नहीं करना चाहिए पैसे का सही जगह इस्तेमाल करना चाहिए और अगर आपके पास अत्यधिक धन है और आप घमंड करते हो तो आपके पास कभी भी लक्ष्मी जी की कृपा नहीं होगी ।

● चाणक्य कहते हैं व्यक्ति अकेले पैदा होता है और अकेले ही मर जाता है और वह अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भोगता है है और खुद ही स्वर्ग या तो नर्क जाता है ।

● चाणक्य बोलते हैं आप किसी भी काम को शुरू करने से पहले अपने आप से 3 प्रश्न कीजिए , पहला कि मैं ये क्यों कर रहा हूं , दूसरा इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और तीसरा क्या मैं इस में सफल हो जाऊंगा जब इन तीनों प्रश्नों के उत्तर आपको मिल जाए तो आप संतोषजनक अपने कार्य को स्टार्ट कर सकते हैं ।


● वह  व्यक्ति जो अपनी फैमिली से अत्यधिक मिलनसार है उसे भय और चिंता का सामना करना पड़ता है क्योंकि इन सब का कारण लगाव है और हमें अगर खुश रहना है तो हमें लगाव छोड़ देना चाहिए ।

● आचार्य चाणक्य कहते हैं इंसान असफल तब नहीं होता है जब वह हार जाता है वह असफल तब होता है जब वह सोच लेता है कि यह कार्य अब उससे नहीं हो पाएगा ।

● हमें सेवक को तब परखना चाहिए जब वह कार्य ना कर रहा हो और मित्र को तब परखना चाहिए जब आप किसी मुश्किल घड़ी में हो और पत्नी को घोर विपत्ति के दौरान परखना चाहिए ।

● किसी भी मनुष्य की वर्तमान स्थिति को देखकर उसका कभी भी मजाक नहीं उड़ाना चाहिए क्योंकि समय में इतनी शक्ति है कि वह कोयले को भी अग्नि में धीरे-धीरे तप करके हीरे में तब्दील करने की शक्ति रखता है ।

 

● इस संसार की यह नीति चली आ रही है कि हमेशा जरूरत पर ही आपको याद करता है उदाहरण के तौर पर सर्दियों में धूप की जरूरत होती है वहीं गर्मियों में उस छूप का तिरस्कार होता है ।
For more Buy this Book

चाणक्य जी से एक व्यक्ति ने प्रश्न किया कि जहर क्या है तो चाणक्य जी ने बहुत ही खूबसूरत सा उत्तर देते हुए कहा कि हर वह चीज हर है जो हमारे जीवन में आवश्यकता से अधिक है चाहे वह धन हो ,भूख हो ,अभिमान हो, आलस्य हो , घृणा हो प्रेम हो यह सब जहर ही हैं , दोस्तों उम्मीद करते हैं आपको Acharya Chanakya जी के Top 10 Best Quotes पसन्द आये होंगे ।





No comments:

Powered by Blogger.